अकबरपुर कोतवाली में पकड़ा गया फर्जी आइपीएस

0
194

अकबरपुर कोतवाली में पकड़ा गया फर्जी आइपीएस, रिश्तेदार से मिलने पहुंचा था।

रिपोर्ट अजीतप्रतापसिंह लालू, रिश्तेदार से मिलने पहुंचा था कोतवाल ने शक होने पर दी एसपी को सूचना पुलिस ने आरोपित की नीली बत्ती लगी कार कब्जे में ली बार काउंसिल और नेशनल ह्यूमन राइट की आइडी मिली…

कानपुर देहात की अकबरपुर कोतवाली पुलिस ने बुधवार को नीली बत्ती लगी कार से कोतवाली परिसर में पहुंचे फर्जी आइपीएस को गिरफ्तार कर लिया। वह एक रिश्तेदार युवक से मिलने पहुंचा था। आरोपित की कार कब्जे में लेकर युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है।

अकबरपुर कोतवाली में बुधवार दोपहर बाद नीली बत्ती लगी कानपुर नंबर की ईको स्पोर्ट आकर रुकी। काफी देर तक कार से कोई नहीं उतरा तो पुलिसकर्मियों ने ध्यान नहीं दिया। माती रोड पर छानबीन के बाद पहुंचे कोतवाल ऋषिकांत शुक्ल ने नीली बत्ती लगी कार देखी तो वह रुरवाहार चौकी प्रभारी अमित शुक्ला व कोतवाली एसएसआई दिनेश कुमार यादव के साथ पहुंचे और कार के अंदर बावर्दी बैठे अफसर को सैल्यूट किया।

कोतवाल उसे अपने साथ कार्यालय में ले गए और चाय-नाश्ता कराया। बातचीत में युवक ने अपना नाम प्रशांत शुक्ला पुत्र अमरनाथ शुक्ला निवासी अमरविला, केशवपुरम, आवास विकास कानपुर बताया। यह भी कहा कि वह 2012 बैच का आइपीएस है

और डीसीपी के पद पर दिल्ली में तैनात है। एक रिश्तेदार से मुलाकात करने यहां आया है। चाय पीकर वह फिर से कार में जा बैठा। बातचीत और हाव-भाव से संदेह होने पर कोतवाल ने एसपी अनुराग वत्स, एएसपी अनूप कुमार और सीओ अर्पित कपूर को जानकारी दी।

कुछ देर बाद ही एसपी व एएसपी कोतवाली पहुंचे और युवक से पूछताछ की तो फर्जीवाड़ा सामने आ गया। एसपी के निर्देश पर फर्जी आइपीएस गिरफ्तार कर लिया गया। उससे मिलने पहुंचे डेरापुर क्षेत्र के एक गांव निवासी रिश्तेदार को भी हिरासत में ले लिया।

कोतवाल ने बताया कि कपटपूर्ण आशय से लोकसेवक की ड्रेस पहनने और धोखाधड़ी करने का मुकदमा दर्ज किया गया है। उसके पास से बार काउंसिल ऑफ यूपी व नेशनल ह्यूमन राइट ऑफ इंडिया का पहचान पत्र मिला है।

LEAVE A REPLY